Balaghat Express
July 16, 2018   01 : 54 : 20 AM

यहां कॉलेज में दुकानदारी, 100-100 रुपए में बेच रहे प्रवेशिका

Posted By : Admin

बिलासपुर। सरकारी कॉलेजों में प्रवेशिका की बिक्री धड़ल्ले से चल रही है। नैक से ए ग्रेड प्राप्त और ऑटोनामी कॉलेज इसमें सबसे आगे हैं। शासकीय बिलासा कन्या पीजी महाविद्यालय में एक साल पुरानी विवरणिका (प्रॉस्पेक्टस) स्टूडेंट्स को जबरन दी जा रही है। उच्च शिक्षा विभाग और बिलासपुर विश्वविद्यालय के आदेशों की खुलेआम धज्जियां उड़ाई जा रही है। बिलासपुर विश्वविद्यालय से संबद्ध कॉलेजों में ऑनलाइन प्रवेश के बाद भी प्रवेश ऑफलाइन प्रवेशिका बेची जा रही है। जिसकी कोई जरूरत नहीं है। छात्र- छात्राओं से जबर

वसूली की जा रही है। सत्र 2018-19 में प्रवेश से पहले उच्च शिक्षा विभाग ने बिलासपुर विश्वविद्यालय को आदेश जारी कर कहा था कि प्रवेश को लेकर केवल ऑनलाइन का विकल्प होना चाहिए। ग्रामीण अंचल या इंटरनेट की खराब होने पर ऑफलाइन फार्म जमा लेने का आदेश दिया गया था। इधर सरकारी कॉलेज ही मनमानी पर उतर आए हैं। संभाग का सबसे प्रतिष्ठित शासकीय बिलासा कन्या पीजी महाविद्यालय और शासकीय ई राघवेंद्र राव विज्ञान महाविद्यालय में स्टूडेंट्स से सौ-सौ रुपए लेकर प्रवेशिका का वितरण किया जा रहा है। जिसे लेकर छात्र-छात्राओं में भारी आक्रोश है। शहर के ए ग्रेड कॉलेज में स्थिति कॉलेज प्रवेशिका मूल्य शासकीय बिलासा कन्या उपलब्ध 100 शासकीय ई राघवेंद्र राव उपलब्ध 100 शासकीय जेपी वर्मा उपलब्ध 100 सीएमडी पीजी कॉलेज उपलब्ध 300 डीपी विप्र पीजी कॉलेज अनुपलब्ध नहीं एक करोड़ वसूली का टारगेट प्रवेशिका को लेकर स्थिति यह है कि पिछले साल कॉलेजों ने एक से ड़ेढ़ करोड़ रुपये इसके जरिए कमाया है। इस साल 104 कॉलेजों से करीब एक करोड़ रुपये का टारगेट है। प्रमुख ए ग्रेड कॉलेज में ही लगभग 20 हजार स्टूडेंट है जिनसे 20 से 25 लाख रुपये वसूल किया जाएगा। छात्रों का आरोप है कि कॉलेज प्रशासन फार्म के साथ जो रसीद देता है उसमें भी इसका उल्लेख नहीं है। कुछ कॉलेज द्वितीय व अंतिम वर्ष के छात्रों को वितरण करने की बात तक कह रहे हैं। प्राइवेट पर शिकंजा सरकारी को छूट प्रवेशिका को लेकर दुकानदारी की खबर ऐसा नहीं है कि विश्वविद्यालय के अधिकारियों और उच्च शिक्षा विभाग को नहीं है। कार्रवाई के नाम पर प्राइवेट कॉलेजों को तुरंत नोटिस जारी कर जवाब मांगते हैं। शासकीय और अनुदान प्राप्त कॉलेज का नाम आने पर अधिकारी शांत पड़ जाते हैं। छात्र संगठनों के पदाधिकारी तो परीक्षा विभाग से सांठगांठ का भी आरोप लगा चुके हैं।

संबंधित खबरें

bgt 04

आज का वीडियो

bgt 03