Balaghat Express
July 16, 2018   02 : 39 : 15 AM

प्राचार्य ने भवन खाली करने लिखा पत्र

Posted By : Dinesh Ramtekkar

लांजी (पद्मेश)। नगर के शासकीय कन्या उच्चत्तर माध्यमिक विद्यालय के प्राचार्य द्वारा शासकीय नवीन हाईस्कूल लांजी के प्राचार्य को पत्र लिखकर शाला भवन को खाली किये जाने को कहा है। ज्ञात हो कि शासकीय कन्या उच्चत्तर माध्यमिक विद्यालय जो कि पूर्व में सालेटेकरी मार्ग पर रेस्टहाउस के सामने भवन में लगती थी। उक्त विद्यालय में छात्राओं की संख्या अधिक होने के कारण यहां छात्राओं को बैठने में दिक्कतों का सामना करना पड़ता था, जिसके लिए जनप्रतिनिधियों व पत्रकारों द्वारा बार-बार मांग किये जाने पर उक्त शा

कीय कन्या उच्चत्तर माध्यमिक विद्यालय के लिए नगर के आमगांव मार्ग पर मिडिल स्कूल के मैदान में स्कूल के लिए नवीन भवन व अतिरिक्त कक्षों का निर्माण किया गया। उक्त शाला भवन का निर्माण पूर्ण होने के उपरान्त उक्त सम्पूर्ण विद्यालय २०१५-१६ में नये भवन में लगने लगा। इससे पूर्व नगर के किले के समीप लगने वाली कन्या माध्यमिक शाला का वर्ष २०१३-१४ में उन्नयन कर नवीन हाईस्कूल का शुभारंभ किया गया। कन्या माध्यमिक शाला की छात्राओं के आठवी कक्षा उत्तीर्ण होने के पश्चात छात्राओं को कक्षा नवमी में वहीं नवीन हाईस्कूल में प्रवेश दिलाया गया एवं उसी भवन में प्रात: पाली में कक्षाएं लगाये जाने लगी। चूंकि शासकीय कन्या उमावि का नवीन भवन बनकर तैयार हो गया था एवं कक्षाएं नवीन भवन में लगने लगी तो रेस्टहाउस के सामने का पुराना भवन जो कि खाली हो चुका था को शासकीय नवीन हाईस्कूल की छात्राओं के लिए मांग की जाने लगी। चूंकि खाली पड़ा भवन खराब हो रहा था इसलिए नगर जनप्रतिनिधियों के द्वारा भी जिला कलेक्टर बालाघाट को वस्तु स्थिति अवगत कराते हुये नवीन हाईस्कूल को पुराना भवन प्रदाय किये जाने की मांग की गई। जिस पर कलेक्टर बालाघाट द्वारा जिला शिक्षा अधिकारी को पत्र लिखकर उक्त खाली पड़े भवन को नवीन हाईस्कूल को उपलब्ध कराने हेतु लेख किया गया। जिस पर जिला शिक्षा अधिकारी द्वारा भी शासकीय कन्या उमावि के प्राचार्य को पत्र लिखकर नवीन हाईस्कूल को उक्त भवन सौपे जाने के लिए लिखा गया। किन्तु कन्या उमावि के प्राचार्य द्वारा एक वर्ष बाद भी उक्त भवन नही सौपा। जिस पर पुन: हाईस्कूल के प्राचार्य एवं जनप्रतिनिधियों द्वारा कलेक्टर महोदय एवं जिला शिक्षा अधिकारी को अवगत कराने पर बमुस्किल चार कमरे उपलब्ध कराये गये, जहां २०१७ से कक्षाएं लगाई जा रही है। किन्तु इस वर्ष २८ अप्रैल २०१८ को पत्र क्रमांक १८०, दिनांक १५ जून २०१८ पत्र क्रमांक २४२ एवं १० जुलाई २०१८ को पत्र क्रमांक २८० के माध्यम से नवीन हाईस्कूल के प्राचार्य को भवन खाली करने के लिए पत्र लेख किया है। पत्र में लेख किया है कि आप अपनी शाला की व्यवस्था करने हेतु लिखित सूचित किया गया था किन्तु आज दिनांक तक अक्तानुसार कार्यवाही नही की गई है। अत:उक्त संदर्भित पत्रों के तहत १६ जुलाई २०१८ से उक्त मूल शाला भवन में कक्षाएं लगाया जाना है। इससे पूर्व शास.कन्या उमावि के प्राचार्य द्वारा १० जुलाई २०१८ को उक्त पुराने भवन में पहुंचकर एक कमरा जहां कक्षा नवमी ब की छात्राएं पढ़ रही थी को बाहर निकालकर उसमें अपना सामान रखवाकर ताला लगा दिया गया। इस संबंध में नवीन हाईस्कूल के प्राचार्य टी डी लिल्हारे द्वारा अनुविभागीय अधिकारी पुलिस एवं जिला शिक्षा अधिकारी बालाघाट को को पत्र लिखकर अवगत कराते हुये इसका निराकरण किये जाने की मांग की थी। किन्तु अब तक कोई कार्यवाही नही होने के उपरान्त १५ जुलाई को पुन:शासकीय उमावि के प्राचार्य द्वारा पुराने भवन में कुछ और फर्नीचर डाले जाने की जानकारी प्राप्त हुई है एवं अपने पत्र के अनुसार आज १६ जुलाई को नवीन हाईस्कूल से पूरा भवन खाली करा लिया जावेगा। चूंकि शासन द्वारा वर्ष २०१३-१४ में शासकीय माध्यमिक कन्या शाला का उन्नयन कर नवीन हाईस्कूल खोला गया, किन्तु ४ वर्ष बीत जाने के बावजूद इसके लिए भवन स्वीकृत नही किया गया। वर्तमान में यहां कक्षा नवमी में १२५ छात्राएं व प्रवेश प्रारंभ तथा कक्षा दसवी में १०५ छात्राएं दर्ज है। यदि आज शासकीय कन्या उच्चत्तर माध्यमिक विद्यालय के प्राचार्य द्वारा पुराना भवन खाली करा दिया जाता है तो ये २३० छात्राएं कक्षा अध्यापन करेगी, यह प्रशासन के समक्ष सबसे प्रश्न होगा?

bgt 04

आज का वीडियो

bgt 03