Balaghat Express
November 01, 2018   02 : 05 : 22 AM

गलत तरीके से बर्खास्त हुए थे मिस्त्री : आरओसी

Posted By : Admin

मुंबई। सायरस मिस्त्री को टाटा संस और टीसीएस के चेयरमैन और निदेशक पद से अचानक बर्खास्त करने की प्रक्रिया में कंपनी कानून के प्रावधानों, आरबीआई के नियमों और इससे भी अधिक महत्वपूर्ण कंपनी के अपने नियमों को तोड़ा गया। यह बात रजिस्ट्रार ऑफ कंपनीज (आरओसी), मुंबई ने सूचना के अधिकार (आरटीआइ) के तहत पूछे गए एक सवाल के जवाब में कही है। यह आरटीआई जवाब असिस्टेंट आरओसी, मुंबई उदय खोमाने ने तीन अक्टूबर को एक आरटीआइ अनुरोध पर दिया। यह अनुरोध 31 अगस्त को शपूरजी पालोनजी समूह की इनवेस्टमेंट कंपनियो

ने किया था। आरटीआई जवाब में कहा गया कि जिस प्रकार से मिस्त्री को टाटा संस के चेयरमैन पद से और टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज (टीसीएस) के निदेशक पद से हटाया गया, उसमें कंपनी कानून-2013 और एनबीएफसी पर रिजर्व बैंक के नियमों के संबंधित प्रावधानों और खासकर टाटा संस के आर्टिकल ऑफ एसोसिएशन (एओए) के नियम 118 की अवहेलना हुई। पेट्रोल और डीजल 18 पैसे सस्ता, जानिए आपके शहर में दाम यह भी पढ़ें टाटा संस टाटा समूह की होल्डिंग कंपनी है और यह एक एनबीएफसी के रूप में पंजीकृत है। घटनाक्रम पर टाटा संस के एक प्रवक्ता ने कहा कि इस विषय पर हम टिप्पणी नहीं करना चाहते हैं, क्योंकि यह मामला अदालत में विचाराधीन है। आरटीआई जवाब टाटा संस के चेयरमैन पद से मिस्त्री की बर्खास्तगी के बाद टाटा संस द्वारा प्रस्तुत दस्तावेजों की समीक्षा पर आधारित है। यह रिपोर्ट आरओसी के आंतरिक दृष्टिकोण को दर्शाता है और यह बर्खास्तगी को चुनौती देने वाली मिस्त्री की याचिका को इस साल के शुरू में खारिज करते समय नेशनल कंपनी लॉ ट्रिब्यूनल (एनसीएलटी) द्वारा अपनाई गई दृष्टि के विपरीत है। सायरस मिस्त्री को 24 अक्टूबर 2016 को टाटा संस के चेयरमैन पद से अचानक बर्खास्त कर दिया गया था। रतन टाटा के सेवानिवृत्त होने के बाद उन्हें दिसंबर 2012 में चेयरमैन बनाया गया था। मिस्त्री के परिवार की टाटा संस में सामूहिक रूप से 18.4 फीसद हिस्सेदारी है। टीसीएस के निदेशक पद से मिस्त्री को 13 दिसंबर 2016 को हुए ईजीएम में हटाया गया था। आरओसी के जवाब में कहा गया है कि टीसीएस के निदेशक पद से मिस्त्री को हटाने की प्रक्रिया में कंपनी ने मिस्त्री के संपूर्ण बयान को सभी शेयरधारकों को नहीं भेजा। यह कंपनी कानून की धारा 169 (4)(बी) का उल्लंघन है। आरओसी, मुंबई ने यह भी पाया कि टाटा संस ने मिस्त्री को बर्खास्त करने में अपने एओए के नियम 118 को भी तोड़ा। मजबूत मांग से सोना दोबारा छह माह के उच्चतम स्तर पर यह भी पढ़ें आरटीआई जवाब में कहा गया है कि टाटा संस के एओए के नियम 118 के मुताबिक इसके चेयरमैन को उसी प्रक्रिया से बर्खास्त किया जा सकता है, जिस प्रक्रिया से उसकी नियुक्ति होती है। इस नियम में नियुक्ति प्रक्रिया के लिए चार सदस्यीय नियुक्ति समिति बनी हुई है। बर्खास्तगी समिति की सिफारिशों के आधार पर सिर्फ बोर्ड को ही चेयरमैन को बर्खास्त करने का अधिकार है।

संबंधित खबरें

  • November 01, 2018   02 : 03 : 25 AM
  • November 01, 2018   02 : 03 : 53 AM
  • November 01, 2018   02 : 04 : 32 AM
bgt 04

आज का वीडियो

bgt 03