Balaghat Express
November 01, 2018   02 : 12 : 38 AM

इस साल भारतीयों ने खरीदे 50 हजार करोड़ के चाइनीज फोन : रिपोर्ट

Posted By : Admin

मल्टीमीडिया डेस्क। भारत में भले ही गाहे-बगाहे चीनी उत्पादों के विरोध के स्वर उठते रहे हों लेकिन सच्चाई तो यह है कि भारत में चीन से आए उत्पादों की खपत बड़ी मात्रा में होते है। दूसरी चीजों के बीच चाइनीज मोबाइल फोन्स ने भी भारत में पिछले 3-4 सालों में अपनी पकड़ मजबूत की है। एक रिपोर्ट के अनुसार इस साल यानी 2018 में भी भारतीयों ने अब तक 50 हजार करोड़ के चीनी मोबाइल फोन खरीदें हैं। आलम यह है कि भारत में टॉप पर चल रही कोरियाई कंपनी सैमसंग को चीनी कंपनियों ने पीछे छोड़ दिया है। चीनी स्म

र्टफोन निर्माता कंपनियों में शाओमी, ओप्पो, वीवो और ऑनर के स्मार्टफोन्स को भारतीय यूजर्स ने काफी पसंद किया है। इकोनॉमिक टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक इस वित्त वर्ष भारतीय यूजर्स ने 50,000 करोड़ रुपये के चीनी स्मार्टफोन खरीदे हैं जो पिछले वित्त वर्ष के मुकाबले दोगुने हैं। इन 4 चीनी स्मार्टफोन्स के अलावा यूजर्स ने वनप्लस और इनफिनिक्स के स्मार्टफोन्स को भी पसंद किया है। इन 6 चीनी ब्रांड्स का भारत में इस वित्त वर्ष कुल बेचे गए स्मार्टफोन्स पर 50 फीसद हिस्सा है। अभी तक मौजूद डाटा के मुताबिक पिछले साल की तरह ही इस साल भी चीनी स्मार्टफोन निर्माता कंपनियों का भारतीय बाजार पर दबदबा बरकरार है और ये तेजी से बढ़ रहे हैं। रिसर्च एजेंसी काउंटरप्वाइंट के एसोसिएट निदेशन तरूण पाठक ने कहा, ''चीनी ब्रांड्स के पास चीन के शेनजेन शहर में मौजूद रिसर्च और डेवलपमेंट हब के साथ ही सप्लाई चेन और इकोसिस्टम का एक्सेस है जो इन्हें इनोवेशन करने के लिए प्रेरित करता है और यही वजह है कि चीनी कंपनियां ट्रेंड में रहती हैं।'' चीनी ब्रांड्स की भारत में कामयाबी कोई चमत्कार नहीं है क्योंकि ये अच्छे स्मार्टफोन्स बनाते हैं (खासतौर पर बजट और मिड रेंज के स्मार्टफोन्स)। सैमसंग जैसे अन्य ब्रांड्स के स्मार्टफोन्स के मुकाबले चीनी कंपनियों के स्मार्टफोन्स काफी सस्ते होते हैं जो भारतीय यूजर्स को आकर्षित करते हैं। भारतीय यूजर्स को बजट रेंज में अच्छे फीचर्स वाले स्मार्टफोन्स पसंद हैं और यही कारण है कि वे चीनी कंपनियों के स्मार्टफोन्स खरीदना पसंद करते हैं।

bgt 04

आज का वीडियो

bgt 03