Balaghat Express
October 05, 2017   01 : 08 : 23 AM

इन दो संगठनों के जरिये नक्सलियों ने बदले थे लाखों के पुराने नोट

Posted By : Admin

रायपुर। नोटबंदी के दौरान नक्सलियों ने युवा शक्ति संगठन और युवा क्लब का सहारा लिया था। इन संगठनों और ग्रामीणों की टोली बनाई थी और लाखों रुपए के पुराने नोट बदले थे। हाल ही में धमतरी जिले में पकड़े गए नक्सली सहयोगियों से पूछताछ के बाद पुिलस ने यह राजफाश किया है। आला अधिकारियों ने बताया कि अभी तक सिर्फ ग्रामीणों पर शक था कि वही उस समय नक्सलियों के नोट बदलवा रहे थे। लेकिन पहली बार पुख्ता प्रमाण मिले हैं। नक्सलियों का यूथ क्लब इस काम में उस दरम्यान सक्रिय रहा। समीवर्ती प्रदेश ओडिशा, महाराष

ट्र, तेलंगाना और झारखंड में भी नक्सलियों ने इस तरह के क्लब बनाए हैं। एंटी नक्सल आपरेशन के आला अधिकारियों ने बताया कि यूथ क्लब में नक्सली 16 से 40 वर्ष के युवाओं को ही शामिल करते हैं। यही युवा उनके लिए राशन और अन्य सामग्रियों का गांव से इंतजाम करते हैं। क्लब के सदस्यों के जरिये पचास हजार से लेकर दो-दो लाख रुपए तक बदलवाए गए। इसमें सबसे ज्यादा इस्तेमाल जनधन खातों का हुआ। खल्लारी के जंगलों से पकड़े गए नक्सली सहयोगी गोविंद मरकाम, यदुवंत नेताम ने पूछताछ में पुलिस को बताया कि यूथ क्लब में एक लीडर तय किया गया था। उस लीडर के माध्यम से जंगलों में रहने वाले नक्सली कमांडर नोटबंदी के दौरान पैसा बदलवाने का काम करते थे। छत्तीसगढ़ में कांकेर, राजनांदगांव, सुकमा और बीजापुर में भी इस तरह के मामले सामने आए हैं। जनधन खातों में अचानक पहुंच गए थे लाखों बस्तर के नक्सल प्रभावित इलाकों में ग्रामीणों के जनधन खातों में अचानक लाखों रुपए पहुंच गए थे। इन खातों में लंबे समय से कोई ट्रांजक्शन नहीं हुआ था। पुलिस के आला अधिकारियों ने बताया कि बैंक के माध्यम से इन खातों की जांच करने पर पता चला कि नक्सलियों के पैसों को इसी माध्यम से बदला गया। - बस्तर में कई जिलों में नोटबंदी के दौरान ग्रामीणों के माध्यम से नोट बदलने की जानकारी मिली है। धमतरी में नक्सली सहयोगियों ने इसे स्वीकार किया है, जिसके बाद पुलिस अन्य इलाकों में भी नोटबंदी के दौरान नक्सलियों का सहयोग करने वालों की तलाश करेगी। - डीएम अवस्थी, डीजी, नक्सल आपरेशन

bgt 04

आज का वीडियो

bgt 03