Balaghat Express
October 05, 2017   02 : 34 : 30 AM

हत्या के आरोप में एक आरोपी को आजीवन कारावास, दो आरोपी दोषमुक्त

Posted By : Arun Lodhi

बालाघाट(पद्मेश)। विद्वान सत्र न्यायाधीश दीपक कुमार अग्रवाल की अदालत ने हत्या के मामले में आरोपी रूकदास उर्फ पाण्डु पिता लक्ष्मणदास मसखरे २४ वर्ष को आजीवन कारावास और पांच हजार रूपये अर्थदण्ड से दण्डित किये। विद्वान अदालत ने इसी मामले के दो आरोपी संदीप पिता बाबूराम कोड़पे २० वर्ष, गीतेश पिता निर्गुणदास ३५ वर्ष को अपराध सिद्ध नहीं होने पर दोषमुक्त कर दिये। जिले के बहेला थानान्तर्गत ग्राम चिचोली निवासी इन आरोपियों के विरूद्ध अपने गांव के राजेन्द्र पिता रामदास मसखरे ३५ वर्ष की हत्या करने का

आरोप था। क्या है मामला अभियोजन के अनुसार १ नवम्बर २०१६ को सुबह ग्राम चिचोली में सोसायटी के पास राजेन्द्र की लाश पायी गयी थी, जिसके सिर पर चोट के निशान थे, जिसकी रिपोर्ट मृतक के पिता रामदास ने बहेला थाना में की थी। बहेला पुलिस ने मौके पर पहुंचकर मृतक राजेन्द्र मसखरे की लाश बरामद की और पोस्टमार्टम करवाकर उसके परिजनों को सौंप दिये तथा राजेन्द्र की हत्या करने के आरोप में अज्ञात आरोपी के विरूद्ध धारा ३०२ ताहि के तहत अपराध दर्ज कर विवेचना शुरू की गई। अपराध अनुसंधान के दौरान मिले साक्ष्य के आधार पर आरोपी रूकदास उर्फ पाण्डे, संदीप पिता कोड़पे, गीतेश को हिरासत में लेकर पूछताछ की गई, जिन्होने फावड़ा से राजेन्द्र के सिर पर मारकर हत्या करना स्वीकार किया। ५०० रूपये के लिये की थी हत्या पिछले वर्ष ३१ अक्टूबर को ग्राम चिचोली की मंडई थी, रात्रि दस बजे रूकदास गीतेश, संदीप कोडपे गांव के सालिकराम की दुकान के पास शराब पी रहे थे। राजेन्द्र ने सालिकराम से ५०० रूपये उधार लिये थे जिसे इन तीनों ने देख लिया था राजेन्द्र शराब के नशे में चबुतरे पर सो गया था, तब ये तीनों राजेन्द्र का जेब टटोलने लगे तभी राजेन्द्र जाग गया था। रात्रि १.३० बजे जब राजेन्द्र अपने घर जा रहा था तब तीनों ने पीछा करके राजेन्द्र को सोसायटी के पास पकड़े और उसका जेब टटोलने लगे तीनों से राजेन्द्र झगड़ा करने लगा तभी रूकदास उर्फ पाण्डु ने राजेन्द्र के सिर में फावड़ा मारा गिरने पर गीतेश और संदीप ने भी राजेन्द्र को फावड़ा मारे इसी समय गांव की सुगबती बाई टार्च लेकर आती दिखी तब सभी फरार हो गये। सुगबती बाई ने रूकदास को मारते राजेन्द्र को मारते देखी थी। दो आरोपी दो मुक्त विद्वान सत्र न्यायाधीश दीपक कुमार अग्रवाल की विद्वान अदालत में चलते इस मामले में अभियोजन पक्ष आरोपी रूकदास उर्फ पाण्डु के विरूद्ध आरोपित अपराध सिद्ध करने में सफल रहा किन्तु अभियोजन पक्ष आरोपी संदीप और गीतेश के विरूद्ध आरोपित अपराध सिद्ध करने में असफल रहा। जिसके परिणाम स्वरूप विद्वान अदालत ने आरोपी संदीप और गीतेश को इस अपराध से दोषमुक्त कर दिये तथा मामले की समस्त परिस्थितियों को देखते हुये विद्वान अदालत ने आरोपी रूकदास उर्फ पाण्डु को राजेन्द्र मसखरे की हत्या में दोषी पाते हुये उसे धारा ३०२ भादवि के तहत आजीवन कारावास और पांच हजार रूपये अर्थदण्ड से दण्डित किये। इस मामले में शासन की ओर से लोक अभियोजक श्रीमती अनिता खरे ने पैरवी की थी।

संबंधित खबरें

  • October 05, 2017   01 : 31 : 24 AM
  • October 05, 2017   01 : 36 : 05 AM
  • October 05, 2017   01 : 54 : 20 AM
  • October 05, 2017   02 : 30 : 41 AM
  • October 05, 2017   02 : 35 : 51 AM
bgt 04

आज का वीडियो

bgt 03